MP News: सर्दियों के मौसम में बिगड़ा किचन का बजट, गर्म मसालों के भाव में तेजी से उछाल

MP News: सर्दियों के मौसम में बिगड़ा किचन का बजट, गर्म मसालों के भाव में तेजी से उछाल


रिपोर्ट- मोहित राठौर

शाजापुर: सर्द मौसम होने के साथ ही मसालों के भाव में तेजी बनी हुई है. जिसके चलते किचन का बजट गड़बड़ा गया है, पिछले साल की तुलना में इस बार सभी मसालों के भाव दोगुना हो गए हैं. हींग, जीरा, सौंफ, लालमिर्च, लोंग की कीमतें तो आसमान छू रही हैं. किराना व्यापारी राकेश राठौर के मुताबिक पिछले साल जहां हींग 2000 हजार रुपए किलो थी तो अब उसके दाम 3000 हजार किलो हो गए हैं. इसी तरह लोंग 600 से बढ़कर 850 और कालीमिर्च 600 से बढ़कर 800 रुपए. जीरा 180 से बढ़कर 350,सौंफ 120 से बढ़कर 170, धनिया 150 से बढ़कर 230,लालमिर्च 300 से बढ़कर 400 रुपए और तिल्ली 130 से बढ़कर 200 रुपये प्रति किलों तक पहुंच गई है. जिसकी वजह है गृहणियों का बजट भी बढ़ गया है. सर्दी में मसलों के तड़के की ज्यादा कीमत चुकानी पड़ रही है.

कोरोना के बाद से बढ़ा मसालों का उपयोग
कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान स्वस्थ रहने के लिए लोगों ने काढ़ा सहित भोजन में मसालों का उपयोग बढ़ाया. आयुर्वेद के अनुसार गरम मसालों का उपयोग रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में कारगर रहता है. साथ ही इससे पाचन क्रिया भी ठीक रहती है. साथ ही सर्दी के मौसम में काढ़ा और भोजन में मसालों का उपयोग भी बढ़ गया है. ऐसे में बाजार में मसालों की डिमांड खासा बढ़ गई है और उत्पादकता कम हुई है. इसके चलते दाम बढ़ रहे हैं.

ड्राई फ्रूट के दाम हुए कम
इस साल मसालों के दाम भले ही तेजी हों लेकिन ड्राई फ्रूट याने सूखे मेवे के दाम पिछले साल की तुलना में कम हैं इस समय काजू 700 रुपए किलो है जबकि पिछले साल यह 750 रुपए था तो वहीं बादाम के दाम भी 20 रुपए गिरकर 680 रुपए हैं हालाकि खारक, खोपरा गोला और गोंद के दाम बढ़े हैं.

Tags: Cold wave, Community kitchen, Mp news, Winter season



Source link

Leave a Reply